NEET Medical Entrance परीक्षा, योग्यता,एडमिशन Courses के बारे में A to Z जानकारी

बढ़ते हुए कॅरियर ऑप्शन और युवाओं के सपनों के उड़ानों के बीच सबसे बड़ी जद्दोजहद एक बेहतर Career Option का चुनाव करना है। कई बार सही जानकारी का अभाव होने पर कैरियर चुनने में गलतियाँ हो सकती हैं।

NEET Medical Entrance Full Detail

किसी भी देश की सम्पन्नता को मापने के एक मापदण्ड उसकी स्वास्थ्य व्यवस्था है और स्वास्थ्य व्यवस्था को सुदृढ़ और मजबूत उसमे काम करने वाले employee होते हैं और स्वास्थ्य व्यवस्था की मुख्य कड़ी डॉक्टर को माना जाता है भारत मे तो Doctors को भगवान का दूसरा रूप माना जाता है इन्ही Doctors को बनने की प्रक्रिया क्या होती है क्या Exams होते हैं क्या योग्यता होती है जानते हैं उसके बारे में विस्तार से

NEET(National Eligibility Cum Entrance Test) के बारे में

यह Exam भारत में मेडिकल एजुकेशन से जुड़े कोर्सेज जैसे:- MBBS और BDS में एडमिशन लेने के लिए ये एक क्वालीफाइंग एंट्रेस एग्जाम है। इस एग्जाम को क्लियर करने वाले स्टूडेंट्स को इस एग्जाम में एडमिशन मिल जाता है।

NTA(National testing agency) द्वारा NEET परीक्षा का आयोजन

 इस एग्जाम का आयोजन NTA द्वारा हर साल करवाया जाता है है। NEET का एग्जाम 2 स्तरों पर किया जाता है।

  • पहला UG (Under Graduate) प्रोगाम
  • दूसरा PG (Post graduate) प्रोगाम

Under Graduate Courses के तहत इस स्तर पर MBBS और BDS (Bachelor Of Dental Surgery) जैसे मेडिकल कोर्सेज में Admission के लिए हर साल NEET का Entrance एग्जाम होता है।

Post Graduate Courses  के बारे में के तहत इस स्तर पर MD और MS जैसे मेडिकल कोर्सेज में एडमिशन के लिए NEET का एंट्रेंस एग्जाम होता है, यह MBBS(bachelor of Medicine And Bachelor Of Surgery) और BDS के बाद के Courses होते हैं

NEET की जरूरत क्यों

NEET का एग्जाम हर साल पूरे भारत में State और Central मिलाकर लगभग 489 medical collages में एडमिशन के लिए आयोजित किया जाता है। इसमे भारत के Top संस्थान शामिल हैं। NEET के पहले भी मेडिकल कोर्सेज में Entrance हुआ करते थे, NEET से पहले भारत में मेडिकल कोर्सेज में एडमिशन लेने के लिए अलग अलग लगभग 90 एग्जाम हुआ करते थे इसमें से  AIPMT (All India Pre-Medical Test), CBSC (Central Board Secondary Education) द्वारा  Conduct करवाया जाता था। इसके अलावा हर स्टेट (state)भी अलग- अलग इंट्रेस करवाता था।

इस स्थिति में स्टूडेंट्स को लगभग 7-8 एंट्रेंस एग्जाम देने पड़ते थे, इस प्रक्रिया से न ही सिर्फ स्टूडेंट्स को सभी एंट्रेंस एग्जाम में अच्छा प्रदर्शन करना होता था बल्कि सभी एंट्रेंस एग्जाम के लिए आवेदन शुल्क और इस एग्जाम में बैठने के लिए बहुत सारा खर्चा भी हुआ करता था। इस आर्थिक बोझ से स्टूडेंट्स को बचाने तथा उनका ज्यादा समय और मेहनत न बेकार जाए इसलिए NEET का एक Single Stage का एग्जाम सरकार द्वारा पहली बार 5 May 2013 को सम्पन्न करवाया गया, जिससे कि Candidates एक परीक्षा में शामिल होकर भारत के किसी भी मेडिकल संस्थान में एडमिशन के पात्र बन सकते हैं।

एनएमसी एक्ट 2020

सरकार द्वारा पारित (NMC act) - National medical commission act द्वारा तय किया गया कि सिर्फ NEET Exam को क्लियर करके ही स्टुडेंट Medical Courses में एडमिशन ले सकता है।

NEET द्वारा AIPMT और स्टेट स्तर पर CET जैसे कि Delhi-PMT, MHCET, R-PMT, WBJEE, EAMCET जैसे Entrance Exams को Repalce कर दिया है जिससे स्टूडेंट्स को एक साथ कई परीक्षाओं के बोझ से आजादी मिल गयी है।

NEET एग्जाम से जुड़ी कुछ मुख्य बातें

  • NEET (UG) - 2019 5 May को हुआ और 5 June 2019 को इसका रिज़ल्ट घोषित कर दिया गया है।
  • ये एक सिंगल स्टेज एग्जाम है ये साल में एक बार होता है। 2021 मे NTA ने सरकार के सामने  इस एग्जाम को साल में 2 बार करने का प्रस्ताव रखा जिससे स्टूडेंट्स का बोझ कम किया जा सकें लेकिन इसे पारित करना अभी तक संभव नहीं हो पाया।
  • परीक्षा की अवधि तीन घंटे की होती है।
  • इसमें बहुविकल्पीय प्रश्न (Objective Type Questions) होते हैं और Negetive Marking(1/4) भी होती है,एक प्रश्न 4 अंक का होता है गलत होने पर 1 अंक दण्ड स्वरूप काट लिया जाता है।
  • इस एग्जाम में बैठने के लिए बारहवीं 12th में Physics, Chemistry, और Biology/Bio- technology विषय होने चाहिए। इन्ही तीन(PCM) विषयो में से प्रश्नों को NEET के एग्जाम में पूछा जाता है।
  • इस एग्जाम को देने के लिए कैंडिडेट की उम्र 17 साल होनी चाहिए । हालाकि इस एग्जाम की कोई upper limit नहीं होती है।
  • इस एग्जाम में बैठने के लिए unreserved category को क्लास 12th में Physics, Chemistry, और Biology विषयों में Minimum 50% मार्क्स की जरूरत होती है।

जबकि OBC और ST candidates के लिए यह 40% है। इस एग्जाम को देने की कोई सीमा नहीं है इसे कई बार दिया जा सकता है।

Note:- Candidate का भारतीय होना जरूरी है।

Support Us

भारतवर्ष की परंपरा रही है कि कोई सामाजिक संस्थान रहा हो या गुरुकुल, हमेशा समाज ने प्रोत्साहित किया है, अगर आपको भी हमारा योगदान जानकारी के प्रति यथार्थ लग रहा हो तो छोटी सी राशि देकर प्रोत्साहन के रूप में योगदान दे सकते हैं।

Mishra Ji

Author: Mishra Ji

Related Posts

Leave a Comment